Corruption Culture Democracy Globalisation Governance Government Life Optimism Politics Radicalization Women World

Pakistani Strategic Culture: False Invincibility or Persistent Revisionism?

provigil drug buy online The issue of revisionism is a strange and important one in International relations discourse. Revisionist states, simply put, are the ones wanting to revise the status quo. Tacit or explicit consent to the status quo leads to long term detrimental effects to their interests in their national security calculation and perception. The most persuasive of the justifications of revisionism is encapsulated in the following dictum: In a race as in the case of the International

Read more
Corruption Crime Democracy Government India Optimism Politics Politics Poverty Radicalization Terrorism Travel Urbanisation Women

India’s North West: A Picture Starting to Emerge

Afghan Taliban’s intransigence on the peace process coupled with its attack on civilians in Kabul has forced the four powers initially driving the peace process to increase the pressure on the group. President Ghani’s announcement to initiate a 5-year war strategy[1] against the Taliban, American drone strike on the head of the Taliban[2] travelling through Baluchistan and Pakistan policy of stepping up operations[3] on the terrorist groups have put the group on the defensive. The Americans have been

Read more
Pakistan_day2
Corruption Democracy Globalisation Governance Government Politics Radicalization Travel Urbanisation Women

Pakistan Political Economy- Where are the Actions for Leap frogging?

The Pakistan politico-economic strategy, like many developing countries is based on the logic of leap frogging certain stages of development. Channeling new information and hardware technologies, flow of international capital and goods, liberalizing trade, massive infrastructure and private sector investment along with parallel human resource development are essential components of this strategy. It is based on the idea that developing countries can learn, improvise and refashion best practices looking at the experiences of developed countries

Read more
Fiction Hindi Literature Short Story Story Women

दिल मछली कांसे की – भाग – १

वो नवम्बर का आखिरी इतवार था, ठंड में लिपटा दिसम्बर की ओर बढ़ता हुआ| इवनिंग मास को खत्म हुए अभी पांच मिनट से कम ही वक़्त हुआ था पर भीड़ मानो एकदम ही कहीं गायब हो गयी थी| रूथ ने कंधे पे पड़ा शॉल खोल के ओढा और रोज़री पर्स के अंदर रख दी| वो चर्च का लॉन पार कर के बाहर निकल ही रही थी कि किसी ने कंधे पर हाथ रख दिया| उसने

Read more
Feminism Fiction Hindi Literature Short Story Story Women

शाहबलूत का पत्ता!!! – भाग – ४

शाहबलूत का पत्ता!! मीलों-मील सूखी घास सड़क के दोनों तरफ़ बड़ी मुस्तैदी से फैली हुई है| इसी के बीच वो दौड़ी चली जा रही है| मृगतृष्णा सी ये घास एक ही बूँद के पड़ने से हरिया जायेगी| मन के विस्तृत बीहड़ में और है ही क्या  सिवाय इस जली-सूखी घास और इस सड़क के| ये सड़क इंतहाई तौर पे सीधी है  और इसकी बुनियाद इतनी टेढ़ी है, इसमें इतनी कज़ी है कि ज़रा दूर ही

Read more
Feminism Fiction Hindi Literature Short Story Story Women

शाहबलूत का पत्ता!!! – भाग – ३

उदासियों के चेहरे कभी बूढ़े नहीं होते ! “लश्कर-बॉम्बे” यादों में झिलमिलाता ये नाम उसे अब भी रातों में जगा जाता था | वही उम्र थी उसकी सत्रह-अठारह साल, इंटर के इम्तिहान दिए थे| कैसी गरम आंधी भरी शाम की रात थी वो उसे आजतक याद है| उसके एक हाथ में सुनार का बटुआ था जिसमें सत्रह सौ रूपये, जीजी की एक चूड़ी और छोटी मामी की दो अंगूठियाँ थीं,और दूसरे हाथ में रतीश का

Read more
Feminism Fiction Hindi Life Literature Short Story Story Women

शाहबलूत का पत्ता!!! – भाग – २

चिठ्ठियाँ जिंदा लाश होती हैं! धूप का तीखापन, दोपहर की निसंगता और उजाड़ सा अपना अस्तित्व खोता ये छोटा स्टेशन| उसने दायें-बायें सर घुमा के देखा, एक चमकदार चौंध हर ओर पसरा पड़ा था|दूर-दूर तक सिवाय चिमनियों के कुछ और नज़र नहीं आता था| या तो उस चौहद्दी के बाहर हर चीज़ बहुत छोटी है या अब ये चिमनियाँ बहुत ऊंची उठ गयीं हैं| पिछली बार जब आई थी यहाँ तो सात साल पहले आई

Read more
Feminism Fiction Hindi Life Literature Short Story Story Women

शाहबलूत का पत्ता!!! – भाग – १

प्रेम, युद्ध से पलायित देवताओं का स्वांग भर है! चौमासों की रात, रात की उमस और आकाश में बादल| आकाश का हर हिस्सा आज बादलों से पटा पड़ा था | बूँदें लबालब भरी हुई थीं, इतनी कि कोई एक बूँद भी हिले तो बीच का तारतम्य ही टूट जाये | “आज पानी न पड़े” उसने सोचा | उधर छत पर कोई किसी को कहानी सुना रहा था जिसके टूटे-टूटे शब्द उसके कानों में पड़ रहे

Read more
Featured Women Women's Day

Women, their superpowers and gifts to the world

First superpower: Motherhood. This puts women in a higher pedestal than men hand hands down. Let us look at a simple situation. I have flu, a foreign organism is trying to invade my system and my body fights back. My body suffers, I feel weak but the symptoms and time period of my illness is short. Now when I entered my mothers womb, I started growing, thriving and sapping her of her energy and nutrients. Of course

Read more