pahlaj-nihalani-censor-chief
Bollywood Celebrity Culture Entertainment Films Indian Culture Movies Opinion Politics Publishing Industry Social Values and Norms

A Ray Of Hope For The Positive, Cultured And Progressive Thinking Indian Citizens

follow site A Ray Of Hope For The Positive, Cultured And Progressive Thinking Indian Citizens Censor board chief Pahlaj Nihalani! With parents trying to teach good manners and schools introducing value –based education, everything comes crumbling down when films- esp. the lead actors and actresses use ‘cuss’ words so often and with a lot of pride too! Quote “Despite strident opposition to the cuss list by the ministry and censor board members, movies have been asked to cut

Read more
milk_for_statues_or_childrens
Culture Education Featured God India Mythology Opinion Poverty Religion Social Values and Norms Top Youth Pulse

Gallons of Milk for the Gods, why not for children?

Shivratri an Indian festival in which millions of devotees pour millions of gallons of milk on Shivlings across the country. I have always found the ritual of pouring milk over stone deities deplorable particularly in a land where millions go to bed hungry every night (The linked site tells that 1/3rd of the world’s hungry are in India) and thousands of children die of malnutrition every day. This is a sad reality and nothing to be

Read more
beautiful-love
God Governance Government Life Love Opinion Philosophy Poem Poetry Politics Religion Social Values and Norms Terrorism

प्यार से जी लो जरा

एक वक्त था कि वो कहते थे यारों सितारे तोड़कर लायेंगे हम जहाँ के लिए जहाँ भी वहीं है सितारे भी वहीं हैं पर वो ही बदल गये हैं अब वो वो न रहे   वो चले थे कुछ लेकर इरादा अपने दिल में क़ि दुनियाँ में हम कमल को खिलाएँगे कमल तो खिला लेते दुनियाँ में वो पर क्या पता था की दुनियाँ में इतनी कीचड़ कहाँ   इरादा तो उनका मुल्क को साफ

Read more
Friends-sex
Education Entertainment Life Marriage sex Social Social Issues Social Values and Norms Television Top Youth Pulse

Why can’t Indians create teleserials like ‘Friends’ and ‘the Big Bang theory’?

Simple reason – we do not believe (anymore) in live-in relationships and proliferating before wedlock – we probably have witnessed the consequences of it (we are a 9000 plus years old civilization folks – remember?) which must have turned out to be a big failure for social development. ‘Friends’ shows a boy & girl living together and behaving like married couples …in the sense sharing the same bed and of course beeping…so what does the

Read more
religion-and-superstition
Culture Life Opinion Poem Poetry Religion Social Social Values and Norms Top

#BetterDemocracy: धर्म और नैतिकता

तुम कहते हो धर्म बड़ा है मैं कहता हूँ जीवन, तेरा सब कुछ है ईश्वर मेरा है प्राकृत जीवन । धर्म नाम है अंधविश्वास का मनुष्य ने जिसको पैदा किया, जीवन तो है एक अविचल धारा जिसने मानव को जन्म दिया । धर्म नाम है रुढ़िवाद का जीवन अविकल कर्म है, धर्म में होती अकर्मण्यता परिवर्तन जीवन का मर्म है । धर्म में तो ईश्वर होता जो शान्त मनुष्य को करता है, कूप मंडूकता भरी

Read more
Child Abuse Poem Poetry Social Values and Norms

अनाथ

मेरी भी एक मां तो होगी पर मैं मां का लाल नहीं, जिस कोख ने मुझको जन्म दिया मैंने पाया उसका प्यार नहीं, जन्म दिया और फेंक दिया फिर पूछा मेरा हाल नहीं, पाकर जन्म हरामी कहलाया मां – बाप का पाया नाम नहीं, वह शैतान पुरुष आबारा था जिसने मां को मजबूर किया, मां की भी मजबूरी देखो जिसने इतना मुझको दूर किया, भगवान भी कोई आबारा होगा जिसने धरती मां को मजबूर किया,

Read more
Corruption Democracy India Poem Politics Social Values and Norms

‘हम आज़ाद हैं’ – एक व्यंग कविता

हम आज़ाद हैं हमें अपनी इच्छानुसार खाना, पहिनना, काम करना और रहना मना है चुपचाप गधे की तरह पीठ पर काम का बोझ लादे दिनभर लगातार खटते रहना, है ठीक पर समय पर मजदूरी मांगना मना है अन्याय, शोषण, बलात्कार के विरुद्ध पुलिस का द्वार खटखटाना न्याय के द्वार पर पड़ा पैसों का पर्दा हटाना मना है भूख से बचाने के लिए बच्चों को मारना या फिर बेचना, है ठीक पर लोकतंत्र में रोटी के लिए

Read more
Womenhood
Feminism Love Motherhood Poem Poetry Social Values and Norms Top

नारी

हे देवी! कितनी विलक्षण, कितनी महान हो तुम, प्रेम का साक्षात सागर, गुणों की खान हो तुम तुम्हारी महानता की समानता रखने वाला संसार में कोई नहीं, तुमने अपने प्यार रूपी पुष्प की सुख रूपी सुगन्धि से सारे संसार को भर दिया है, तुमने अपने इंद्रियजनित सुखों से सारे संसार को परिपूर्ण कर दिया है तुम्हारा दर्शन सुख! अहा! कितना प्रिय है ये जिसे प्राप्त करने के लिए चाँद भी लुका छिपी करता है, सारी रात

Read more
stories-behind-words-kith-and-kin
Life Love Optimism Philosophy Social Social Values and Norms

“KINTH”: Its origin and meaning

The word ‘Kinth’ is related with the English dictionary. It is formed by combining two English words ‘Kith’ and ‘Kin’ and their meanings are acquaintance & family and relatives respectively. The words Kinship and kinsman originates from ‘KIN’ and these words correspond to relationship and relatives. So, the combined meaning of ‘Kith and Kin’ is ‘Friends and Relatives’. It is not related to any caste and creed. Also, it is not any surname. The phrase

Read more