Indian-Culture
Culture Hindi India Opinion Social Social Values and Norms

संस्कृति, संस्कार और शिक्षा (भाग-१)

संस्कृति:- सामान्यतः लोग ‘संस्कृति’ का सम्बन्ध कलाओं अथवा ललित कलाओं तक ही सीमित रखते हैं क्योंकि जब कहीं कलात्मक अथवा ललित कलाओं या वाद्य संगीत आदि के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं तो यह कहा जाता है की सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया है| इसी प्रकार यदि कहीं पर साहित्यिक या काव्य पाठ आदि का आयोजन होता है तो उसे साहित्यिक कार्यक्रम का नाम दिया जाता है| धर्म से सम्बन्धित कार्यक्रम को धार्मिक, विज्ञान

Read more
Corruption India Opinion Poem Poetry Politics Poverty Social Values and Norms

नेता और नैतिकता

कटते हैं सर जवानों के देश की सरहदों पर दुश्मनों से लड़ते-लड़ते थकती नहीं जवां नेताओं की अपनी बहादुरी बयाँ करते-करते दुश्मनों से तो बस जवान ही लड़ा करते हैं नेता लोग तो दूर ही से आदेश दिया करते हैं नेता खाते हैं घूस हथियारों की खरीद में गोली खाते हैं सीने पर जवान दुश्मनों की नेता तो बस कूटनीति ही किया करते हैं ये तो जवान हैं जो सीधे युद्ध किया करते हैं नेता

Read more
Poem Poetry Poverty Social Social Values and Norms Top

अंबेडकर की कलम

क्रांति के लिए जली मशाल, क्रांति के लिए बढ़े कदम ॥ अपमान के विरुद्ध सम्मान के लिए, शोषण के विरुद्ध अरमान के लिए, दलित, शोषित, पिछड़ी जाति के लिए, हम लड़ेंगे हमने ली है कसम । क्रांति के लिए जली मशाल, क्रांति के लिए बढ़े कदम ॥ छिन रही हैं आदमी की रोटियाँ, बिक रही हैं शोषितों की बेटियाँ, किंतु पूंजीपति, राजनेता मिलकर शोषकों के साथ, भर रहे हैं कोठियाँ । लूट का यह राज

Read more
Poem Poetry Social Social Values and Norms

अधिकार मिल कर ही रहेगा

गर बज गया है बिगुल संघर्ष का, तो अधिकार मिलकर ही रहेगा । कोई न मुझको रोक सकेगा शक्ति से डरा धमका कर, कदम न मेरे मोड़ सकेगा झूठे स्वप्न दिखाकर । अब तो दम लेंगे हम अपनी मंजिल पर ही जाकर, ली है हमने शपथ संघर्ष का बिगुल बजाकर ॥ गर चल पड़ा है यह कारवां, तो अब मंजिल पर ही ठहरेगा । गर बज गया है बिगुल संघर्ष का, तो अधिकार मिलकर ही

Read more
female-child-abuse
Child Abuse Featured Feminism Opinion Short Story Social Issues Social Values and Norms Top

सोच बदलो..सब बदलेगा..

एक लडकी..सहूलियत के लिये कोई भी नाम रख लीजिये चलिये निकी नाम रख लेते है उम्र तकरीबन 12-14 साल स्कूल के लिये घर से निकलती है। पडोस के गुप्ता अंकल (उम्र 40-45 साल) अपने घर के बरामदे मे रिलैक्स चेयर पर बैठे हुये है। निकी ने “नमस्ते अंकल” कहा –जैसा कि बचपन से कहती आई है। गुप्ता अंकल ने भी संपूर्ण सह्रयदता से नमस्ते कहा और भावविह्वल होकर पास बुलाया। निकी खुश होकर दौडी और

Read more
where-is-the-confusion
Crime Literature Philosophy Poem Poetry Poverty Social Values and Norms Top

Where’s the confusion?- A Short Poem

I often hear people say things like – No one knows What is right And What is wrong It’s just a perception Everything is right & everything is wrong It’s a matter of perspective – that’s all. Really?! Let me enumerate the wrongs – Lying, Stealing, Cheating Terrorizing, exploiting, killing Smuggling, raping, murdering… These are a few wrong things Punishable crimes Not only considered a crime From the Unheard, unseen, unknown Almighty Creator But also

Read more
God Governance Government Happiness Legends Mythology Philosophy Religion Social Values and Norms

Ignorance is bad but pseudo truth is even worse

Read on for a probable reason……… Look at Shri Krishna from Duruyodhana’s point of view… Who do you see? The greatest villain of the era – the one responsible for destroying not just the Kuru vansh but also all the other kingdoms who supported them blindly – fought for them, all soldiers….several families – those who belonged to the supporters of Kuru vansh! When they were given an opportunity to select the other side –

Read more
Arts Literature Social Values and Norms

THE WONDERFUL TRUTH ABOUT KNOWLEDGE (PART-1 )

It is a misconception that knowledge and wisdom can only be obtained from learned people or teachers of good educational institution. Infact the truth is, one can obtain knowledge and wisdom from each and every small thing and from anywhere and anytime. It can be from good and learned people, teachers, good quality educational institutions or even very small things of the nature and society. Nothing in the world is useless. Everything has some meaning

Read more
Hindi Opinion Philosophy Poem Poetry Social Values and Norms

पुरुष और नारी

जमाने का रंग बदलता है, दुनियां का रंग बदलता नहीं आदमी की मांग बदलती है, इंसानियत की मांग बदलती नहीं धर्म की ध्वनि बदलती है, मर्म की वाणी बदलती नहीं विचार की पद्धति बदलती है, आचार की नीति बदलती नहीं भाव की भंगिमा बदलती है, स्वभाव की भित्ति बदलती नहीं अनुभव की बुद्धि बदलती है, अनुभूति की दृष्टि बदलती नहीं जीवन की वृत्ति बदलती है, मन की वृत्ति बदलती नहीं समाज के पहलू बदलते हें

Read more
marriage-tests
Generation Y Happiness Indian Culture Marriage Romance sex Social Issues Social Values and Norms Youth Pulse

How your marriage/relationship can stand the test of time?

Though Indian society has long embraced the ways of the west, yet the traditions abounding the same are still cherished by many. One such custom is the institution of marriage. A marital alliance in India is still given much importance and couples who are in a relationship; in most of the cases ultimately look forward to tie the knot.  However, in the recent past cases of break-ups and divorces in India have increased manifold. Two

Read more