Fiction Hindi Literature Short Story Story

दिल मछली कांसे की – भाग – ३

कोहरे में डूबी सुबह का सूरज अभी निकला भी नहीं था कि फ़ोन की घंटी बज पड़ी | उसने करवट ले घडी देखी सुबह के छ: बज रहे थे| इतनी सुबह किसका फ़ोन होगा| उसने अलसाई आवाज़ में कहा| “हेलो” “हेलो हनी|” “कैसी हो मॉम? बहुत लो साउंड कर रही हो ” “ हाँ, हॉस्पिटल से फ़ोन कर रही हूँ| बंगलुरु से|” “बंगलुरु से,हॉस्पिटल से??” “हाँ डियाज़ एडमिट है| साल भर से किडनी प्रॉब्लम देने लगी थी उसकी| अब तक तो मेरे ही हॉस्पिटल में था पर अब यहाँ रेफ़र कर दिया है| इतना अल्कोहल शुरू कर दिया था कि

Read more
Fiction Hindi Literature Short Story Story

दिल मछली कांसे की – भाग – २

घर के पिछली तरफ़ जहाँ रूथ और सोफ़ी का कमरा हुआ करता था उसकी खिड़की से स्कूल का मेन गेट दिखा करता था|उसने खिड़की खोली तो सामने ही स्कूल का बड़ा सा बोर्ड चमक रहा था| कितनी-कितनी बातें रूथ के मन में हलचल सी मचाने लगीं| “ मॉम देखो सोफ़ी आज फिर मेरी स्कर्ट पहन के भाग गयी| अब मैं स्कूल कैसे जाऊँगी?” “तुम उसका स्कर्ट पहन कर चली जाओ रूथ, एक ही साइज़ है हनी|” “मॉम उसका नहीं उसकी| वो अपनी गंदी स्कर्ट बेड पर फेंक कर गयी है|” “ओह! गॉड ये लड़की भी न टेंथ तक आ कर

Read more
Fiction Hindi Literature Short Story Story Women

दिल मछली कांसे की – भाग – १

वो नवम्बर का आखिरी इतवार था, ठंड में लिपटा दिसम्बर की ओर बढ़ता हुआ| इवनिंग मास को खत्म हुए अभी पांच मिनट से कम ही वक़्त हुआ था पर भीड़ मानो एकदम ही कहीं गायब हो गयी थी| रूथ ने कंधे पे पड़ा शॉल खोल के ओढा और रोज़री पर्स के अंदर रख दी| वो चर्च का लॉन पार कर के बाहर निकल ही रही थी कि किसी ने कंधे पर हाथ रख दिया| उसने पलट कर देखा उसी की उम्र की एक औरत सामने खड़ी थी,पर वो पहचान नहीं पायी| “सोफ़ी गोम्ज़ ?? मिसेज़ गोम्ज़ की बेटी|” “यस, आई

Read more
Feminism Fiction Hindi Literature Short Story Story Women

शाहबलूत का पत्ता!!! – भाग – ४

शाहबलूत का पत्ता!! मीलों-मील सूखी घास सड़क के दोनों तरफ़ बड़ी मुस्तैदी से फैली हुई है| इसी के बीच वो दौड़ी चली जा रही है| मृगतृष्णा सी ये घास एक ही बूँद के पड़ने से हरिया जायेगी| मन के विस्तृत बीहड़ में और है ही क्या  सिवाय इस जली-सूखी घास और इस सड़क के| ये सड़क इंतहाई तौर पे सीधी है  और इसकी बुनियाद इतनी टेढ़ी है, इसमें इतनी कज़ी है कि ज़रा दूर ही से गोल,सर्पीली,टेढ़ी-मेढ़ी लगती है| इसको बनाने वाले वास्तुकार के हाथों में इतनी-इतनी ऐंठन है कि ज़रा दूर की सीधी-सपाट राह को हथेलियों से रगड़-रगड़ टेढ़ा-मेढा

Read more
Feminism Fiction Hindi Literature Short Story Story Women

शाहबलूत का पत्ता!!! – भाग – ३

उदासियों के चेहरे कभी बूढ़े नहीं होते ! “लश्कर-बॉम्बे” यादों में झिलमिलाता ये नाम उसे अब भी रातों में जगा जाता था | वही उम्र थी उसकी सत्रह-अठारह साल, इंटर के इम्तिहान दिए थे| कैसी गरम आंधी भरी शाम की रात थी वो उसे आजतक याद है| उसके एक हाथ में सुनार का बटुआ था जिसमें सत्रह सौ रूपये, जीजी की एक चूड़ी और छोटी मामी की दो अंगूठियाँ थीं,और दूसरे हाथ में रतीश का हाथ था| कैसा रूमान था जो उसकी देह में घर कर गया था?, उसका एक पाँव गाड़ी के पायदान पर था दूसरा हवा में, कि

Read more
Feminism Fiction Hindi Life Literature Short Story Story Women

शाहबलूत का पत्ता!!! – भाग – २

चिठ्ठियाँ जिंदा लाश होती हैं! धूप का तीखापन, दोपहर की निसंगता और उजाड़ सा अपना अस्तित्व खोता ये छोटा स्टेशन| उसने दायें-बायें सर घुमा के देखा, एक चमकदार चौंध हर ओर पसरा पड़ा था|दूर-दूर तक सिवाय चिमनियों के कुछ और नज़र नहीं आता था| या तो उस चौहद्दी के बाहर हर चीज़ बहुत छोटी है या अब ये चिमनियाँ बहुत ऊंची उठ गयीं हैं| पिछली बार जब आई थी यहाँ तो सात साल पहले आई थी|उस समय ये नया पुल नहीं था इसकी जगह जर्जर, हिलता- काँपता बिलकुल इसका जुड़वां पुल था या ये उसका जुड़वां है|  जीजी की चिठ्ठी

Read more
Feminism Fiction Hindi Life Literature Short Story Story Women

शाहबलूत का पत्ता!!! – भाग – १

प्रेम, युद्ध से पलायित देवताओं का स्वांग भर है! चौमासों की रात, रात की उमस और आकाश में बादल| आकाश का हर हिस्सा आज बादलों से पटा पड़ा था | बूँदें लबालब भरी हुई थीं, इतनी कि कोई एक बूँद भी हिले तो बीच का तारतम्य ही टूट जाये | “आज पानी न पड़े” उसने सोचा | उधर छत पर कोई किसी को कहानी सुना रहा था जिसके टूटे-टूटे शब्द उसके कानों में पड़ रहे थे| “आला खोल टटिया, बाला खोल टटिया, में खोल टटिया, चें खोल टटिया|” उसे यूँ लगा जैसे कोई मन भीतर के किवाड़ खटखटा रहा हो|

Read more
Indian Culture Marriage Short Story Social Values and Norms

A Lifetime Spent

It was her 25th marriage anniversary. They had decided to throw a party in the evening. However, instead of being ecstatic she was in a reflective mood. Thinking, wondering, pondering…a whole series of events and images came to her mind. Not all of them were pleasant but definitely memorable. Sitting with a cup of tea in her hand in the small yet cosy balcony she mused about her marriage to a stranger whom she had eventually befriended. They had spent twenty-five years with each other. This was unbelievable keeping in mind the first impression she had of him. Their parents had fixed

Read more
Featured Happiness Life Philosophy Short Story Top

Listen & Silent are spelled with the same letters

There was a farmer who lost his watch in the barn. This watch was given to him by his father and there was a sentimental attachment to the watch. He searched high and low, but could not find it. He enlisted the help of  a group of children, promising them a reward. They couldn’t find the watch either. But one little boy went up to him and asked to be given another chance. “Why not” the farmer thought, “After all, this kid looks sincere enough.” So the farmer sent the little boy back in the barn. After a while the

Read more
He-profits-most-who-serves-best
Branding Business Marketing Short Story Top Work

Sorry for being spicy

Your brand is what your customers speak about when you leave the room. ~ Jeff Bezos of Amazon. Get closer than ever before to your customers. So close that you tell them what they need well before they even realise it. ~ Steve Jobs of Apple. Well before the Amazons and the Apples of the world created world class technology brands adulated by their customers, I learned an invaluable lesson about building brand loyalty through a great customer experience. Unfortunately, lessons like these do not come in as ”a pre-packaged solution, with on-site customization, enabled by cloud, and rich with

Read more