Featured Fiction Hindi Honour Killing India Short Story Social Issues

बेग़म एक हुकुम की उर्फ़ ब्लैक क्वीन – भाग ३

झालरों की जगमगाहट दूर ही से बता देती थी कि ये शादी के उत्सव की चकाचोंध है। पूरी गली के सर पर पंडाल तना था। अप्रैल की चढ़ती गर्मी में शादी थी। उदास सी शाम हल्के-हल्के हाँफ रही थी और ऐसा लगता था जैसे आंधी आने के आसार हों। किसी ने आवाज़ लगाई, अरे भई राजू जल्दी-जल्दी जाओ कल के लिए जनवासे का इंतजाम देखो। भई जितेन्दर कहाँ है अब? पता है किसी को। अरे गोल कमरे में पत्ते खेल रहे हैं सब वही है। अच्छा। एक लड़की ने दरवाज़ा धकेला और कमरे में घुस गयी। उर्मिला सामने पलंग पर बैठी थी। अरे सुधा! व्हाट

Read more
Featured Fiction Hindi Honour Killing India Life Social Issues

बेग़म एक हुकुम की उर्फ़ ब्लैक क्वीन – भाग २

जुगनू या पटबीजने बरसात के गहरे अंधेरों में बहुत चमकते हैं। बीजना (हाथपंखा) हिलाती हवा इन्हें चौखाने या चारखाने में बँटी रात में इधर-उधर फ़ेंक देती है। ये गिरते हैं, भीगते हैं, फिर उठ कर जगमगाने लगते हैं। तांबे के रंग सा दिल जब उदासी के गहरे खून में डूबता है तो फिर न संभल पाता है, न धड़क पाता है, न जगमगाता है। दिल की नसें हमेशा की तरह खून की आवाजाही बनाये रखती हैं। कोई एक बड़ी नस चोरी से एक जुगनू छुपा कर रख लेता है, मौका-बेमौका जब कभी ये जगमगा जाता है तो लोगों को लगता है

Read more
Featured Fiction Hindi Honour Killing India Social Social Issues

बेग़म एक हुकुम की उर्फ़ ब्लैक क्वीन – भाग १

ताश के पत्ते की गड्डी की तरह जिंदगी ने उसे फेंट कर जोकर सा बाहर फेंक दिया था। ये लड़का जो किसी भी खेल में किंग मेकर की भूमिका निभा सकता था, जिंदगी के इस अजब खेल में जोकर बना मैदान के बाहर पड़ा था। इस खेल का नाम प्यार था,और वो इस खेल में बुरी तरह हार चुका था। उसने तो अब तक यही सुना था कि प्रेम में प्रतिद्वंदिता नहीं होती, पर सामने वाला पक्ष उसे प्रतिद्वंदी मान सबक सिखाने को उतारु था। कब मौका लगे और उसे पटखनी दी जा सके। कैक्टस के झुर्रियां नहीं पड़ती कभी, किसी भी

Read more