2017 Culture Democracy Environment Featured Feminism Globalisation Government Happiness Human Resource India Life Opinion Optimism Productivity Urbanisation Women

Indira Gandhi the environmentalist!

When we talk about India’s only female Prime Minister till date, what comes to our mind? Emergency, ‘Garibi Hatao Andolan‘, 1971 Bangladesh War, Operation Bluestar etc. But it is surprising to note that Indira Gandhi was also a lover of nature. She was a lover of mountains, of tranquil seas and of beautiful birds that roamed India in all their grace & magnanimity. Indian National Congress (INC) member Jairam Ramesh in his book ‘Indira Gandhi: A life

Read more
2017 Corruption Democracy Feminism Opinion Optimism Story Women World

International Day of the Girl Child!

Today is International day of the girl child. It’s a day to take a step back and understand the status of gender equality in society. Even after 70 years after independence, India still doesn’t boast of having a high sex ratio. While the Southern state of Kerala registers a satisfactory 1047 females for every 1000 males but  National Capital of Delhi registers a meager 847 females per 1000 males as per the latest National Family

Read more
BHU
Corruption Culture Democracy Education Feminism Globalisation Governance Opinion Politics Women

कट्टरपंथी सोच भारत के लिए खतरनाक है

हाल ही मे बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय (BHU) मे छात्रायों के शान्ति धरने पर पुलिस की एक ही प्रतिक्रिया थी- लाठीचार्ज। जब छात्राएं अपने एक सहेली के ऊपर यौन उत्पीड़ण, बिगड़ती सुरक्षा प्रणाली, शरारती तत्व, गुंडागर्दी और लिंग भेदभाव से जुड़े कई एहम मुद्दों पर विश्वविद्यालय के कुलपति से बातचीत करने की अपेक्षा की तो उन पर लाठियों की बौछार हुई। दुःख की बात है की शिक्षा और आध्यात्मिकता के इस मंदिर मे इस तरह की

Read more
ns
Democracy Feminism Governance Optimism Politics Science Technology Women

Time for the Defence Minister to gear up

It’s a historic moment for India indeed. After a period of 35 years, she witnessed another woman becoming the defence minister of India. There has been universal praise from all sections of politics, media and civil society. With Nirmala Sitharaman becoming Union Defense minister and Sushma Swaraj handling External Affairs, it’s a rare sight to see two crucial portfolios of government being handled being handled by intellectually and experientially strong and capable women. Apart from

Read more
Entertainment Feminism Generation Y Opinion Shopping

Guy Outside a Girl Trial Room: Experiences

  Light pink, dark pink, lavender pink, rose pink, salmon pink….blah pink. Never had an idea what the actual difference between them really is, till you actually ended up befriending a girl and started going out with her. Yeah right, once you started dating her and took her shopping, you realised the pinks are a lot of trouble. Here Anshuman Sharvesh talks about what that generally means and how even though you have no idea

Read more
Feminism Fiction Hindi Literature Short Story Story Women

शाहबलूत का पत्ता!!! – भाग – ४

शाहबलूत का पत्ता!! मीलों-मील सूखी घास सड़क के दोनों तरफ़ बड़ी मुस्तैदी से फैली हुई है| इसी के बीच वो दौड़ी चली जा रही है| मृगतृष्णा सी ये घास एक ही बूँद के पड़ने से हरिया जायेगी| मन के विस्तृत बीहड़ में और है ही क्या  सिवाय इस जली-सूखी घास और इस सड़क के| ये सड़क इंतहाई तौर पे सीधी है  और इसकी बुनियाद इतनी टेढ़ी है, इसमें इतनी कज़ी है कि ज़रा दूर ही

Read more
Feminism Fiction Hindi Literature Short Story Story Women

शाहबलूत का पत्ता!!! – भाग – ३

उदासियों के चेहरे कभी बूढ़े नहीं होते ! “लश्कर-बॉम्बे” यादों में झिलमिलाता ये नाम उसे अब भी रातों में जगा जाता था | वही उम्र थी उसकी सत्रह-अठारह साल, इंटर के इम्तिहान दिए थे| कैसी गरम आंधी भरी शाम की रात थी वो उसे आजतक याद है| उसके एक हाथ में सुनार का बटुआ था जिसमें सत्रह सौ रूपये, जीजी की एक चूड़ी और छोटी मामी की दो अंगूठियाँ थीं,और दूसरे हाथ में रतीश का

Read more
Feminism Fiction Hindi Life Literature Short Story Story Women

शाहबलूत का पत्ता!!! – भाग – २

चिठ्ठियाँ जिंदा लाश होती हैं! धूप का तीखापन, दोपहर की निसंगता और उजाड़ सा अपना अस्तित्व खोता ये छोटा स्टेशन| उसने दायें-बायें सर घुमा के देखा, एक चमकदार चौंध हर ओर पसरा पड़ा था|दूर-दूर तक सिवाय चिमनियों के कुछ और नज़र नहीं आता था| या तो उस चौहद्दी के बाहर हर चीज़ बहुत छोटी है या अब ये चिमनियाँ बहुत ऊंची उठ गयीं हैं| पिछली बार जब आई थी यहाँ तो सात साल पहले आई

Read more
Feminism Fiction Hindi Life Literature Short Story Story Women

शाहबलूत का पत्ता!!! – भाग – १

प्रेम, युद्ध से पलायित देवताओं का स्वांग भर है! चौमासों की रात, रात की उमस और आकाश में बादल| आकाश का हर हिस्सा आज बादलों से पटा पड़ा था | बूँदें लबालब भरी हुई थीं, इतनी कि कोई एक बूँद भी हिले तो बीच का तारतम्य ही टूट जाये | “आज पानी न पड़े” उसने सोचा | उधर छत पर कोई किसी को कहानी सुना रहा था जिसके टूटे-टूटे शब्द उसके कानों में पड़ रहे

Read more