ns
Democracy Feminism Governance Optimism Politics Science Technology Women

Time for the Defence Minister to gear up

It’s a historic moment for India indeed. After a period of 35 years, she witnessed another woman becoming the defence minister of India. There has been universal praise from all sections of politics, media and civil society. With Nirmala Sitharaman becoming Union Defense minister and Sushma Swaraj handling External Affairs, it’s a rare sight to see two crucial portfolios of government being handled being handled by intellectually and experientially strong and capable women. Apart from Mrs. Sitharaman, worldwide countries such as Germany, Australia and France too have women defense ministers. Apart from being a soft-spoken and no-nonsense speaker, Mrs Sitharaman’s

Read more
Entertainment Feminism Generation Y Opinion Shopping

Guy Outside a Girl Trial Room: Experiences

  Light pink, dark pink, lavender pink, rose pink, salmon pink….blah pink. Never had an idea what the actual difference between them really is, till you actually ended up befriending a girl and started going out with her. Yeah right, once you started dating her and took her shopping, you realised the pinks are a lot of trouble. Here Anshuman Sharvesh talks about what that generally means and how even though you have no idea of pinks you have to end up saying which is the best. Once you are done with the headache of colour, having shown utmost knowledge

Read more
Feminism Fiction Hindi Literature Short Story Story Women

शाहबलूत का पत्ता!!! – भाग – ४

शाहबलूत का पत्ता!! मीलों-मील सूखी घास सड़क के दोनों तरफ़ बड़ी मुस्तैदी से फैली हुई है| इसी के बीच वो दौड़ी चली जा रही है| मृगतृष्णा सी ये घास एक ही बूँद के पड़ने से हरिया जायेगी| मन के विस्तृत बीहड़ में और है ही क्या  सिवाय इस जली-सूखी घास और इस सड़क के| ये सड़क इंतहाई तौर पे सीधी है  और इसकी बुनियाद इतनी टेढ़ी है, इसमें इतनी कज़ी है कि ज़रा दूर ही से गोल,सर्पीली,टेढ़ी-मेढ़ी लगती है| इसको बनाने वाले वास्तुकार के हाथों में इतनी-इतनी ऐंठन है कि ज़रा दूर की सीधी-सपाट राह को हथेलियों से रगड़-रगड़ टेढ़ा-मेढा

Read more
Feminism Fiction Hindi Literature Short Story Story Women

शाहबलूत का पत्ता!!! – भाग – ३

उदासियों के चेहरे कभी बूढ़े नहीं होते ! “लश्कर-बॉम्बे” यादों में झिलमिलाता ये नाम उसे अब भी रातों में जगा जाता था | वही उम्र थी उसकी सत्रह-अठारह साल, इंटर के इम्तिहान दिए थे| कैसी गरम आंधी भरी शाम की रात थी वो उसे आजतक याद है| उसके एक हाथ में सुनार का बटुआ था जिसमें सत्रह सौ रूपये, जीजी की एक चूड़ी और छोटी मामी की दो अंगूठियाँ थीं,और दूसरे हाथ में रतीश का हाथ था| कैसा रूमान था जो उसकी देह में घर कर गया था?, उसका एक पाँव गाड़ी के पायदान पर था दूसरा हवा में, कि

Read more
Feminism Fiction Hindi Life Literature Short Story Story Women

शाहबलूत का पत्ता!!! – भाग – २

चिठ्ठियाँ जिंदा लाश होती हैं! धूप का तीखापन, दोपहर की निसंगता और उजाड़ सा अपना अस्तित्व खोता ये छोटा स्टेशन| उसने दायें-बायें सर घुमा के देखा, एक चमकदार चौंध हर ओर पसरा पड़ा था|दूर-दूर तक सिवाय चिमनियों के कुछ और नज़र नहीं आता था| या तो उस चौहद्दी के बाहर हर चीज़ बहुत छोटी है या अब ये चिमनियाँ बहुत ऊंची उठ गयीं हैं| पिछली बार जब आई थी यहाँ तो सात साल पहले आई थी|उस समय ये नया पुल नहीं था इसकी जगह जर्जर, हिलता- काँपता बिलकुल इसका जुड़वां पुल था या ये उसका जुड़वां है|  जीजी की चिठ्ठी

Read more
Feminism Fiction Hindi Life Literature Short Story Story Women

शाहबलूत का पत्ता!!! – भाग – १

प्रेम, युद्ध से पलायित देवताओं का स्वांग भर है! चौमासों की रात, रात की उमस और आकाश में बादल| आकाश का हर हिस्सा आज बादलों से पटा पड़ा था | बूँदें लबालब भरी हुई थीं, इतनी कि कोई एक बूँद भी हिले तो बीच का तारतम्य ही टूट जाये | “आज पानी न पड़े” उसने सोचा | उधर छत पर कोई किसी को कहानी सुना रहा था जिसके टूटे-टूटे शब्द उसके कानों में पड़ रहे थे| “आला खोल टटिया, बाला खोल टटिया, में खोल टटिया, चें खोल टटिया|” उसे यूँ लगा जैसे कोई मन भीतर के किवाड़ खटखटा रहा हो|

Read more
women in delhi
Delhi/NCR Entertainment Feminism

Types Of Young Women In Delhi

The Behenji: The behenji is the stalwart of the Indian middle class. Normally travels by bus or can be seen haggling in the street corner to take an auto. Wears a suit to please the parents but wears jeans while going out with friends. Jeans are normally boot cuts with large embellishments and embroidery on the back that makes it easy to distinguish from normal women. Thinks she knows English but drops grammatical gems like “I has finished it”. Also forms the bulk of people who smell of Chameli ka Tel and have confined themselves to their fate of getting married

Read more
female-child-abuse
Child Abuse Featured Feminism Opinion Short Story Social Issues Social Values and Norms Top

सोच बदलो..सब बदलेगा..

एक लडकी..सहूलियत के लिये कोई भी नाम रख लीजिये चलिये निकी नाम रख लेते है उम्र तकरीबन 12-14 साल स्कूल के लिये घर से निकलती है। पडोस के गुप्ता अंकल (उम्र 40-45 साल) अपने घर के बरामदे मे रिलैक्स चेयर पर बैठे हुये है। निकी ने “नमस्ते अंकल” कहा –जैसा कि बचपन से कहती आई है। गुप्ता अंकल ने भी संपूर्ण सह्रयदता से नमस्ते कहा और भावविह्वल होकर पास बुलाया। निकी खुश होकर दौडी और गुप्ता अंकल के पास पहुंची। जैसे कि बचपन से हमेशा आती थी। गुप्ता अंकल ने निकी को गोद मे बिठा लिया और बातें करने लगे।

Read more
housewife-vs-working-mom
Career Moms Featured Feminism Human Resource Motherhood Opinion Social Issues Top

Aagnyakaari bahu or malicious daughter-in-law

Household chores or job workload? Functions at home or meetings at office? Aagnyakaari bahu or malicious daughter-in-law? There is always a tug of war between these two categories of females. One becomes a sanskaari bahu and the other becomes a selfish and self-centered bahu. The way society has created certain barriers in front of women to stop her doing particular activities, in the same way they have also formed few perceptions for those women who are housewives and for those who are working. A housewife should get up early, perform pooja, take care of the family, do household chores, keep

Read more