Book Review Celebrity Cricket Culture Democracy Films Globalisation Hindi History Mumbai Shayri Television Urdu

एक अध्बुध कलाकार, एक अध्बुध जीवन

कुछ दिन पहले ही मैं एक दुखद खबर से वाकिफ हुआ- अभिनेता टॉम आल्टर नहीं रहे। कुछ क्षण के लिए मानो समय रुक गया हो। मुझे ‘द ब्लू आइड साहेब’ से मिलने का मौका तो नसीब नहीं हुआ लेकिन उनके कुछ ज़बरदस्त कार्यक्रम देखने का मौका ज़रूर मिला। दूरदर्शन पर प्रसारित कई कार्यक्रमों से टॉम साहेब जुड़े रहे। 1997 मे ‘शक्तिमान’ धारावाहिक के  ‘महागुरु’ के किरदार से बच्चा-बच्चा वाकिफ है। टॉम साहेब का यह किरदार

Read more
2017 Bollywood Celebrity comedy Entertainment Featured Fiction Films Hindi Movie Review Movies Reviews

Judwa 2 Review: Watch Varun Dhawan Trying His Best To Pass As Salman Khan

  Director: David Dhawan Actors: Varun Dhawan, Tapsee Panu, Jacquline Fernandez, Johny Lever, Rajpal Yadav, Salman Khan (cameo) Stars: ** (2)   ‘Identical Twins’ ‘Whistleblower Parents’ ‘Tragic Separation Of Twin Siblings’ ‘Growing Up With Different Personalities’ ‘Twins Face-off’ ‘Confusion for Identity’ ‘Whatsapp Jokes & Slapstick Comedy’ Yes, you guessed it right we are talking about Salman Khan’s yesteryears hit comedy ‘Judwa’, and the reprised version with Varun Dhawan is no different. It’s so confident with

Read more
Featured Hindi Legends Poem Poetry Top Urdu Youth Pulse

एक बम की अभिलाषा: फीट भगत सिंह

यह पंडित जी का फैसला था की असेंबली में बम फेंकने भगत नहीं जायेगा. और झुंझलाये हुए सुखदेव को समझ नहीं आ रहा था की दल का सबसे बेहतर प्रवक्ता कैसे और क्यों नहीं जायेगा. उसने भगत पर मोहब्बत का इलज़ाम लगाया पर भगत ने मोहब्बत के इलज़ाम को झूठा ठहराया. पर भगत सुखदेव की झुंझलाहट को समझ रहा था और कहीं जनता था की सुखदेव जायज़ बात कर रहा है. इसलिए पंडित जी के

Read more
Fiction Hindi Literature Story

दिल मछली कांसे की – भाग – ४

दरवाज़े के ठीक सामने वर्जिन मेरी की एक बहुत बड़ी तस्वीर टंग रही थी, जिसका ऑइल पेंट अब इतना धुंधला, इतना हल्का पड़ गया था कि अब उसपे बने चेहरे के भाव देख पाना,पढ़ पाना बहुत ही मुश्किल था| ये आगरा में रुथ का आख़िरी सन्डे था| इसके बाद कौन जाने दुबारा इस चर्च को अब देखना भी हो या नहीं| समय कितना बदल गया है उसने सोचा| इन्हीं वर्जिन मेरी की तस्वीर के साथ

Read more
Fiction Hindi Literature Short Story Story

दिल मछली कांसे की – भाग – ३

कोहरे में डूबी सुबह का सूरज अभी निकला भी नहीं था कि फ़ोन की घंटी बज पड़ी | उसने करवट ले घडी देखी सुबह के छ: बज रहे थे| इतनी सुबह किसका फ़ोन होगा| उसने अलसाई आवाज़ में कहा| “हेलो” “हेलो हनी|” “कैसी हो मॉम? बहुत लो साउंड कर रही हो ” “ हाँ, हॉस्पिटल से फ़ोन कर रही हूँ| बंगलुरु से|” “बंगलुरु से,हॉस्पिटल से??” “हाँ डियाज़ एडमिट है| साल भर से किडनी प्रॉब्लम देने

Read more
Fiction Hindi Literature Short Story Story

दिल मछली कांसे की – भाग – २

घर के पिछली तरफ़ जहाँ रूथ और सोफ़ी का कमरा हुआ करता था उसकी खिड़की से स्कूल का मेन गेट दिखा करता था|उसने खिड़की खोली तो सामने ही स्कूल का बड़ा सा बोर्ड चमक रहा था| कितनी-कितनी बातें रूथ के मन में हलचल सी मचाने लगीं| “ मॉम देखो सोफ़ी आज फिर मेरी स्कर्ट पहन के भाग गयी| अब मैं स्कूल कैसे जाऊँगी?” “तुम उसका स्कर्ट पहन कर चली जाओ रूथ, एक ही साइज़ है

Read more
Fiction Hindi Literature Short Story Story Women

दिल मछली कांसे की – भाग – १

वो नवम्बर का आखिरी इतवार था, ठंड में लिपटा दिसम्बर की ओर बढ़ता हुआ| इवनिंग मास को खत्म हुए अभी पांच मिनट से कम ही वक़्त हुआ था पर भीड़ मानो एकदम ही कहीं गायब हो गयी थी| रूथ ने कंधे पे पड़ा शॉल खोल के ओढा और रोज़री पर्स के अंदर रख दी| वो चर्च का लॉन पार कर के बाहर निकल ही रही थी कि किसी ने कंधे पर हाथ रख दिया| उसने

Read more
Feminism Fiction Hindi Literature Short Story Story Women

शाहबलूत का पत्ता!!! – भाग – ४

शाहबलूत का पत्ता!! मीलों-मील सूखी घास सड़क के दोनों तरफ़ बड़ी मुस्तैदी से फैली हुई है| इसी के बीच वो दौड़ी चली जा रही है| मृगतृष्णा सी ये घास एक ही बूँद के पड़ने से हरिया जायेगी| मन के विस्तृत बीहड़ में और है ही क्या  सिवाय इस जली-सूखी घास और इस सड़क के| ये सड़क इंतहाई तौर पे सीधी है  और इसकी बुनियाद इतनी टेढ़ी है, इसमें इतनी कज़ी है कि ज़रा दूर ही

Read more
Feminism Fiction Hindi Literature Short Story Story Women

शाहबलूत का पत्ता!!! – भाग – ३

उदासियों के चेहरे कभी बूढ़े नहीं होते ! “लश्कर-बॉम्बे” यादों में झिलमिलाता ये नाम उसे अब भी रातों में जगा जाता था | वही उम्र थी उसकी सत्रह-अठारह साल, इंटर के इम्तिहान दिए थे| कैसी गरम आंधी भरी शाम की रात थी वो उसे आजतक याद है| उसके एक हाथ में सुनार का बटुआ था जिसमें सत्रह सौ रूपये, जीजी की एक चूड़ी और छोटी मामी की दो अंगूठियाँ थीं,और दूसरे हाथ में रतीश का

Read more
Feminism Fiction Hindi Life Literature Short Story Story Women

शाहबलूत का पत्ता!!! – भाग – २

चिठ्ठियाँ जिंदा लाश होती हैं! धूप का तीखापन, दोपहर की निसंगता और उजाड़ सा अपना अस्तित्व खोता ये छोटा स्टेशन| उसने दायें-बायें सर घुमा के देखा, एक चमकदार चौंध हर ओर पसरा पड़ा था|दूर-दूर तक सिवाय चिमनियों के कुछ और नज़र नहीं आता था| या तो उस चौहद्दी के बाहर हर चीज़ बहुत छोटी है या अब ये चिमनियाँ बहुत ऊंची उठ गयीं हैं| पिछली बार जब आई थी यहाँ तो सात साल पहले आई

Read more