Feminism Fiction Hindi Life Literature Short Story Story Women

शाहबलूत का पत्ता!!! – भाग – २

चिठ्ठियाँ जिंदा लाश होती हैं! धूप का तीखापन, दोपहर की निसंगता और उजाड़ सा अपना अस्तित्व खोता ये छोटा स्टेशन| उसने दायें-बायें सर घुमा के

Read more
Hindi Poetry

क्यों करे मच्छर से शादी ……………. Awesome Must Read

कल रात को हम अपने खाट पे मस्त हो के सो रहे थे मुक्त हो के दुनिया के बन्धनों से मीठे सपने पीरो रहे थे सपने में थी साथ हमारे एक सुन्दर सी नारी तभी किसी ने हमे गाल पे एक जोरदार डंक मारी उस डंक के प्रभाव से हमारी  नींद ही नहीं सपना भी टूट गया मीठे सपने के साथ उस कोमल नारी का साथ भी छुट गया        हम तिलमिलाए से उठे और कहा हे काले छुद्र से प्राणी                                               क्यों हमारे कोमल से  गाल पे  डंक मारी                                               तब हूम-हूम के साथ एक आवाज आई                                               बत्तमीज़ हम है मच्छरों की राजकुमारी                                               तुम्हारा खून चखने में बड़ा मीठा है

Read more