2017 Culture Democracy Feminism Globalisation Governance Happiness Human Resource India Opinion Optimism Productivity Radicalization Women Women's Day

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर एक सोच!

modafinil get high अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का आरंभ 28 फरवरी 1909 को अमेरिका के न्यू यॉर्क शहर मे हुआ था। सोशलिस्ट पार्टी ऑफ़ अमेरिका ने आंदोलन निकालते हुए महिलाओं के लिए सामान अधिकार की मांग की। आंदोलन की नेता थेरेसा मैलकीयल, जिसे महिला दिवस का निर्माता कहा जाता है, उन्हें यह विश्वास था की यदि समाज महिला को भी पुरुषों जैसे सम्मान और सहानुभूति दे, तो दुनिया एक अलग जगह होती। 109 वर्ष बाद, उनका सपना पूरा तो

Read more
2017 Auto Culture Entrepreneurship Fiction Films Globalisation God India Movies New Story Opinion Optimism Science Technology Television Work Workforce World

Mining in Outer Space is going to become a reality

Noted English thinker Thomas Malthus famously commented that, ‘ As population would increase geometrically, doubling every 25 years, food production would only grow arithmetically, which would result in famine and starvation, unless births were controlled.’ Though the statement is 220 years old, it still holds credence! But what if we could actually acquire critical resources like water and energy, basic necessities for producing food, without burdening the earth? What if we could procure these items from an

Read more
2017 Culture Education Globalisation Health Legends Life Medicine Optimism Productivity Story Technology World

डॉ. हर गोविन्द खोराना का अध्बुध जीवन!

डॉ. हरगोबिंद खोराना जैव प्रौद्योगिकी और आनुवांशिक इंजीनियरिंग की दुनिया में मशहूर नाम हैं। उनके काम से आज हम यह समझ पाएं हैं की जीव-जंतु को आकार और अस्तित्व देने वाले डीएनए काम कैसे करते हैं। कंप्यूटर कोड की तरह डीएनए भी करोड़ों कोड से बना हुआ है। डॉ. हरगोबिंद खोराना का जन्म रायपुर गाँव, पंजाब, ब्रिटिश इंडिया (अब पाकिस्तान) मे 9 जनवरी 1922 को हुआ था। बचपन से ही वे विज्ञान की दुनिया से

Read more
2017 Auto Crime Delhi/NCR Globalisation Governance Government Happiness Health Opinion Optimism

Can your car be a polluting agent? In Delhi, unfortunately its true

If anybody were to undertake a ‘Delhi Darshan’, apart from witnessing the fantastic monuments and scenic spots one would inevitably be greeted by the ominous ‘Pradushit Vaayu’ (PV) also known as ‘Air Pollution’. PV hits a record high every winter. Dangerously though, PV isn’t restricted to outdoor air. The confines of your home, office and even your car are not without its own concoction of PV. Be it the humble Maruti 800 or the latest

Read more
Corruption Culture Democracy Globalisation God Governance Government Happiness Human Resource Opinion Optimism Philosophy Productivity Story

बलूचिस्तान सिर्फ झगड़े का इलाका नहीं है!

ईरान में चाबहार बंदरगाह और पाकिस्तान में ग्वादर बंदरगाह क्रमशः नई दिल्ली समझौते (2003) और चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरीडोर (सीपीईसी) के तहत बातचीत के महत्वपूर्ण बिंदु हैं। भौगोलिक और संसाधन मूल्य के अलावा, इन दोनों क्षेत्रों के बीच स्थित बलूचिस्तान  कुछ अनोखी सांस्कृतिक संभावनाएं पेश करता है जिससे भारत अपने सासंकृतिक और राजनैतिक शक्ति को और सुदृढ़ कर सकता है; ग्वादर पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में स्थित है। ‘बलोच’ लोग, जो पाकिस्तान और ईरान के 3.6% और

Read more
2017 Culture Delhi/NCR Environment Globalisation Governance Government India Life Opinion Technology World

Is Delhi ready for BS-VI fuel?

For the past two winters, Delhi has witnessed high smog levels owing to vehicular pollution & crop-burning. To ensure that pollution is kept under control, the Delhi government decided to introduce BS-VI grade petrol & diesel in the capital two years ahead of schedule in April 2018. But the move by the government, though praiseworthy and much needed, presents crucial issues that need remedy; 1. Delhi has a vehicular population in excess of 1 Crore.

Read more
2017 Culture Democracy Environment Featured Feminism Globalisation Government Happiness Human Resource India Life Opinion Optimism Productivity Urbanisation Women

Indira Gandhi the environmentalist!

When we talk about India’s only female Prime Minister till date, what comes to our mind? Emergency, ‘Garibi Hatao Andolan‘, 1971 Bangladesh War, Operation Bluestar etc. But it is surprising to note that Indira Gandhi was also a lover of nature. She was a lover of mountains, of tranquil seas and of beautiful birds that roamed India in all their grace & magnanimity. Indian National Congress (INC) member Jairam Ramesh in his book ‘Indira Gandhi: A life

Read more
2017 Arts Business Culture Food Globalisation Happiness Indian Culture Opinion Optimism Productivity Science Technology Tourism

Going the GI way!

Recently, West Bengal (WB) and Odisha had a fight over the ownership of the delicious sweet, Rasogolla. WB won the ownership owing to the fact that it was found to be Geographically Indicated (GI) in WB. Geographical Indicator (GI) ensures that an innovation or item that is produced within a country is protected in a manner such that its conception, creation and distribution is managed by the original innovator. GI is part of the original

Read more
2017 Culture Environment Globalisation Happiness Human Resource Opinion Optimism Productivity World

प्रदुषण से चाहिए आज़ादी!

“जंगल-जंगल पता चला है, चड्डी पहेन के फूल खिला है”। मोगली और उसके जंगली दोस्तों के कारनामों से भरा यह गाना आज भी मन को उसी तरह भाता है जैसा यह आज से तकरीबन 20 साल भाता था। वाकई मे जंगल का दृश्य अध्बुध है। प्रकृति का यह अनमोल तोफा ना जाने मनुष्य को कितने सदियों से जीवित रख रहा है। लेकिन दुःख की बात है की लालच और क्रूरता मे लुप्त मानव ने वन-वातावरण

Read more
2017 Book Culture Democracy Globalisation Infrastructure Opinion Optimism Productivity

नोटबंदी किसी बेवकूफी से कम नहीं!

नोटबंदी को आज एक साल हो गया है। मानो कल ही की बात हो। पिताजी का स्कूटर थामे मै एक बैंक से दुसरे बैंक के चक्कर काट रहा था इसी उम्मीद मे की कुछ पैसे मिल जाएँ जिससे की दादी अपने दवाई खरीद सके, दूधवाले को पैसे मिल सके और कामवाली को समय पर तंखा मिल सके। मेरी हालत फिर भी देश के कई मज़दूर, फलवाले और किसानों से बेहतर है। प्रधान मंत्री मोदी के 8

Read more