Corruption Culture Democracy Globalisation God Governance Government Happiness Human Resource Opinion Optimism Philosophy Productivity Story

बलूचिस्तान सिर्फ झगड़े का इलाका नहीं है!

ईरान में चाबहार बंदरगाह और पाकिस्तान में ग्वादर बंदरगाह क्रमशः नई दिल्ली समझौते (2003) और चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरीडोर (सीपीईसी) के तहत बातचीत के महत्वपूर्ण बिंदु हैं। भौगोलिक और संसाधन मूल्य के अलावा, इन दोनों क्षेत्रों के बीच स्थित बलूचिस्तान  कुछ अनोखी सांस्कृतिक संभावनाएं पेश करता है जिससे भारत अपने सासंकृतिक और राजनैतिक शक्ति को और सुदृढ़ कर सकता है; ग्वादर पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में स्थित है। ‘बलोच’ लोग, जो पाकिस्तान और ईरान के 3.6% और

Read more
2017 Cities Culture Governance History India Life Opinion Optimism Productivity

Let’s be humans before being religious!

Babri Masjid demolition (BMD) in Ayodhya is one of the darkest moments in Indian history. Though the event took place 25 years ago on 6 Dec.1992, the vengeance and damage done during that period persists till today and has affected Indian society and polity deeply; 1. Hindu nationalists or karsevaks, by destroying the mosque on the pretext that an actual ‘Ram Mandir’ used to exist on the masjid’s spot, set in motion a chain of

Read more
2017 Culture Education Environment Featured Happiness Human Resource India Indian Culture Life Opinion Optimism Philosophy Productivity World

Understanding Hinduism Vs Hindutva

In recent times, the idea of Hindutva being tagged as ‘Hinduistic’ in behavior has surfaced. However, both are completely different concepts and cannot be put on the same pedestal. It’s crucial to understand the difference between the two. Hinduism is one of the oldest religions in the world. As noted leader and thinker, Shashi Tharoor says, “Hinduism is ‘Anant’. It has neither a beginning nor an end.” Swami Vivekanand’s speech at the ‘World Parliament of Religions’

Read more
2017 Culture Democracy Environment Featured Feminism Globalisation Government Happiness Human Resource India Life Opinion Optimism Productivity Urbanisation Women

Indira Gandhi the environmentalist!

When we talk about India’s only female Prime Minister till date, what comes to our mind? Emergency, ‘Garibi Hatao Andolan‘, 1971 Bangladesh War, Operation Bluestar etc. But it is surprising to note that Indira Gandhi was also a lover of nature. She was a lover of mountains, of tranquil seas and of beautiful birds that roamed India in all their grace & magnanimity. Indian National Congress (INC) member Jairam Ramesh in his book ‘Indira Gandhi: A life

Read more
2017 Arts Bollywood Corruption Culture Entertainment Fiction Government History India Love Mythology Opinion Optimism Politics Radicalization Recruitment

Let Padmavati be released!

Padmavati is one of India’s most anticipated historical films that almost everyone is eagerly waiting to watch. But due to the historical context of the film that deals with the exploits of a Rajput princess against the tyranny of a Muslim conqueror, the film has garnered its fair share of controversy. Groups such as the Shree Rajput Karni Sena (SRKS) and the Rajasthan State Women’s Commission (RSWC) have mobilized in large numbers and have threatened

Read more
2017 Arts Business Culture Food Globalisation Happiness Indian Culture Opinion Optimism Productivity Science Technology Tourism

Going the GI way!

Recently, West Bengal (WB) and Odisha had a fight over the ownership of the delicious sweet, Rasogolla. WB won the ownership owing to the fact that it was found to be Geographically Indicated (GI) in WB. Geographical Indicator (GI) ensures that an innovation or item that is produced within a country is protected in a manner such that its conception, creation and distribution is managed by the original innovator. GI is part of the original

Read more
2017 Culture Environment Globalisation Happiness Human Resource Opinion Optimism Productivity World

प्रदुषण से चाहिए आज़ादी!

“जंगल-जंगल पता चला है, चड्डी पहेन के फूल खिला है”। मोगली और उसके जंगली दोस्तों के कारनामों से भरा यह गाना आज भी मन को उसी तरह भाता है जैसा यह आज से तकरीबन 20 साल भाता था। वाकई मे जंगल का दृश्य अध्बुध है। प्रकृति का यह अनमोल तोफा ना जाने मनुष्य को कितने सदियों से जीवित रख रहा है। लेकिन दुःख की बात है की लालच और क्रूरता मे लुप्त मानव ने वन-वातावरण

Read more
2017 Culture Happiness Health Human Resource India Productivity World

प्रदुषण ले लड़ने के लिए कुछ आयुर्वेदिक रास्ते

कैसे दिन आ गए हैं? भगवान् का दिया हुआ एक अनमोल तोफा- हवा- को भी इंसान ने इतना दूषित कर दिया है कि जगह-जगह लोग प्रदूषण से बचने के लिए मुखौटे और प्यूरीफायर खरीद रहे हैं। घर से ऑफिस यातायात करना भी मेरे लिए खतरे से कम नहीं रहा। जलती आखें, डगमगाती सासें और सिरदर्द आम बात हो चुकी है। हालांकि मैं तकनीकी यन्त्र जैसे कि प्यूरीफायर इत्यादि के खिलाफ नहीं हूँ, प्रदूषण से लड़ने

Read more
2017 Book Culture Democracy Globalisation Infrastructure Opinion Optimism Productivity

नोटबंदी किसी बेवकूफी से कम नहीं!

नोटबंदी को आज एक साल हो गया है। मानो कल ही की बात हो। पिताजी का स्कूटर थामे मै एक बैंक से दुसरे बैंक के चक्कर काट रहा था इसी उम्मीद मे की कुछ पैसे मिल जाएँ जिससे की दादी अपने दवाई खरीद सके, दूधवाले को पैसे मिल सके और कामवाली को समय पर तंखा मिल सके। मेरी हालत फिर भी देश के कई मज़दूर, फलवाले और किसानों से बेहतर है। प्रधान मंत्री मोदी के 8

Read more
2017 Fiction Health History Human Resource Opinion Optimism Productivity

अब ‘हेड ट्रांसप्लांट’ दूर नहीं!

चिकित्सा की दुनिया मे दिन ब दिन इंसान नई ऊँचाइयों को छु रहा है। टी.बी., चिकन पौक्स, स्मौल पॉक्स जैसे खतरनाक बीमारियों का खात्मा भी इंसान ने अपनी लगन, कोशिश और दृढ संकल्प से पूर्ण किया। लेकिन फिर भी ऐसे कई रोग अब भी उपस्थित हैं जिस पर इंसान ने जीत हासिल नहीं की है। कैंसर, एड्स, लकवा जैसी बीमारियाँ अब भी मानवता के लिए ‘खतरा’ का प्रतीक है। ज़्यादातर मामलों मे शरीर की दुर्गम

Read more