I-Am-A-Poet
Hindi Poem Poetry Top

कवित्री हूँ मैं

लोग कहते है मुझेलिखती हूँ मैं अनूठाकवित्री बनना चाहिए मुझेये है तुम्हारी विशेषतामन ही मन में अपने से कहती हूँमैंने लिखा जो मुझे लगाजीवन की

Read more
Life Poem Poetry Top

कुछ यूँ ही मैं अपने भविष्य की कामना करती हूँ।

काले घने बादलों से ढका हुआ, असुविधा, अव्यवस्थित से भरा हुआ, हमें आगे का भविष्य धुंधला नज़र आता है, हर पल हमारा कल हमें सताता है।

Read more
Life Poem Top

An Ode To The Setting Sun

समुन्दर के किनारे टहल्ते हुए , उगते हुए सूरज को डूबते हुए , देखना बड़ी बात नहीं। पर उस डूबते हुए सूरज के अन्दर झांकना

Read more