Anagh is a skilled creative writer, loves to read & write Hindi literature, short stories & Poetry. A chef by profession & a poet by heart teaches how to cook as well. Anagh is sharpening his writing skills from last one decade.
Featured Fiction Hindi Honour Killing India Life Social Issues

बेग़म एक हुकुम की उर्फ़ ब्लैक क्वीन – भाग २

जुगनू या पटबीजने बरसात के गहरे अंधेरों में बहुत चमकते हैं। बीजना (हाथपंखा) हिलाती हवा इन्हें चौखाने या चारखाने में बँटी रात में इधर-उधर फ़ेंक देती है। ये गिरते हैं, भीगते हैं, फिर उठ कर जगमगाने लगते हैं। तांबे के रंग सा दिल जब उदासी के गहरे खून में डूबता है तो फिर न संभल पाता है, न धड़क पाता है, न जगमगाता है। दिल की नसें हमेशा की तरह खून की आवाजाही बनाये रखती हैं।

Read more
Featured Fiction Hindi Honour Killing India Social Social Issues

बेग़म एक हुकुम की उर्फ़ ब्लैक क्वीन – भाग १

ताश के पत्ते की गड्डी की तरह जिंदगी ने उसे फेंट कर जोकर सा बाहर फेंक दिया था। ये लड़का जो किसी भी खेल में किंग मेकर की भूमिका निभा सकता था, जिंदगी के इस अजब खेल में जोकर बना मैदान के बाहर पड़ा था। इस खेल का नाम प्यार था,और वो इस खेल में बुरी तरह हार चुका था। उसने तो अब तक यही सुना था कि प्रेम में प्रतिद्वंदिता नहीं होती, पर सामने वाला पक्ष

Read more
Arts Fiction Hindi Short Story Top

चीनी मिट्टी- रेशम पानी – 3

समय की चकफेरियों में जो सामान्य हो गए उन्होंने अपने लिए गंगा के तट तलाश लिए……… जो विलक्षण बचे रह गए उन्होंने अपने लिए आकाशगंगाऐं चुनी उनके उदगम-समागम के छोर ढूंढने को। फिर वो चाहे शेक्सपीयर की कोई नायिका हो,कामू का कालिगुला या दिनकर का कर्ण………. ये बचे रहे अपने सामान्यीकरण के होने से।ये विवश रहे जीवन के बजाय समय की प्रतिच्छायाऐं जीने को। ये समय के आगे थे इसलिए इतिहास में बदल दिए गए।

Read more
Arts Fiction Hindi Short Story Top

चीनी मिट्टी – रेशम पानी – 2

जून के नौ तपे के बाद भी अब तक रातें अब तक लू के असर से दहक रही थीं। ऐसी ही एक गर्म और अँधेरी रात में वो पराये,अंजान शहर में भटक रहे थे,जैसे अज्ञातवास में छुपे पांडवों को ढूंढ रहे हों। रिक्शे पर बैठे नानकमल शुगर ने इधर-उधर देखा,माथे पर आया हल्का पसीना कुर्ते की बांह से पोंछा और आँखें अँधेरे में यूँ गड़ा दीं मानो समय के पार झाँक रहे हो। रात के निविड़

Read more
Arts Fiction Hindi Short Story Top

चीनी मिट्टी- रेशम पानी – 2

माई की जै, माई की जै ……… हर ओर से उठती आवाज़ें उसके अंदर सिरहन पैदा कर रही थीं। उसने अपनी पसीजी हथेलियों को देखा फिर एक दूसरे में यूँ चिपका दिया जैसे सामने बैठी भीड़ को नमस्कार किया हो। पंडाल में दूर-दूर तक औरतें क़तार की क़तार दम साधे माई को सुनने के लिए बैठी थीं। इतनी भीड़ देख कर वो सकपका गई,सोचा की भाग जाए पर दुनिया को ठगने वाली यूँ ज़रा सी भीड़

Read more
Arts Fiction Hindi Short Story Top

चीनी मिट्टी- रेशम पानी

“आह्लाद की रेशमी डोरी हो या विषाद का सूती बिछौना, स्मृति में बंद पहले प्यार का सूखा गुलाब दोनों में बराबर ही महकता है ,उसने कहीं सुना था ये।” पर उसकी स्मृति में सिर्फ़ गुलाब ही नहीं तमाम संसार बंद था और जिसकी महक उसके अंदर हर पल ठाठें मारती रहती थीं। कितनी बड़ी चौखट थी उस घर की जैसे किसी ने बुलंद दरवाज़े की नकल उतार के जड़ दी हो। धूप-छाँव बिना उसे पार किये

Read more
Hindi Love Short Story

वो उससे मिला था

“वो कल नम्रता से मिला था।”, कॉलेज की लड़कियों के झुंड में से निम्मी की आवाज़ गूंजी। “कब,कहाँ?”, तूने कहाँ देखा ? ताहिरा ने पूछा। “कल वहीं बस अड्डे पे देखा था दोनों को, वह आठ चालीस की बस से चली गयी और वो …” “और वो क्या?” “और वो साढ़े नौ की बस से चला गया। ” “और तुम क्या कर रहीं थी वहाँ ?” “मुझे कल बाज़ार जाना था तो बस के इंतज़ार

Read more
Short Story Top

इन दरख्तों से ख़ूँ टपकता है!!! – 9

कॉफ़ी हाउस में वो दोनों नहीं आमने-सामने जैसे चुप्पी बैठी थी। नकली फूलों पर प्लास्टिक की ओस से जमे हुए। फिर सौम्या ने ही कॉफ़ी का प्याला सरकाते हुए कहा। प्यार दो तरीके का होता है। एक जैसा तुमने किया और दूसरा जैसे मैंने। मैं जानती थी मेरा प्यार तुम्हारे ऐसे था। “जैसे बटन होल में लगा फूल.……………पहले दिन महकेगा,दूसरे दिन थोड़ा कुम्लहायेगा और तीसरे दिन जब मुरझा जायेगा तब इसे हाथ से झटक दोगे।

Read more
Short Story Top

इन दरख्तों से ख़ूँ टपकता है!!! – 8

धाँय गोली चली,धमाके से पूरी कोठी काँप उठी। साथ चलते कूलर की तेज आवाज़ भी उस धमाके में घड़ी भर को डूब गयी। वो दौड़ कर ऊपर भागी। पद्मा का खून में लथपथ शरीर आधा कमरे में और आधा चौखट के बाहर पड़ा था। इमराना के पीछे-पीछे शुक्ला जी भी वहाँ पहुँच गए। कमरे के एक कोने दिव्य खड़ा था और पाँव के पास पिस्तौल पड़ी थी। दोनों चीज़ें एक साथ पहुँची शुक्ला जी के

Read more
Short Story Top

इन दरख्तों से ख़ूँ टपकता है!!! – 7

“जिसका विद्रोह होता है,उसका वर्चस्व होता है, और जिसका वर्चस्व होता है वो राजा होता है। मुझे राजा बनना है इसलिए वर्चस्व चाहिए।” समझीं सौम्या ,दिव्य ने कहा। “और राजा का ही पतन होता है। “, याद रखना दिव्य सौम्या ने एक फीकी हँसी हँस कर कहा। बरसात की बूंदों ने जहाँ जीवन की सामान्य परिपाटी को ढर्रे से उतारा वहीं जून की आग उगलती गर्मी से राहत भी दी। कोठी के कोने में लगा

Read more