Love Poem Poetry

रास्ता

आये हैं चलने को चलते रहेंगे
जलते हैं लोग ये जलते रहेंगे
चाहे कहे कोई हमें काली परछाइयाँ
चाहे कोई दे हमे लाखों दुहाईयाँ
भरते हैं आहें ये भरते रहेंगे
जलते हैं लोग ये जलते रहेंगे
आये हैं चलने को चलते रहेंगे
जलते हैं लोग ये जलते रहेंगे

छोड़ो भी इन लोगों को
जाने दो इन लोगों को
मिलते हैं लोग ये मिलते रहेंगे
जलते हैं लोग ये जलते रहेंगे
आये हैं चलने को चलते रहेंगे
जलते हैं लोग ये जलते रहेंगे

मग में हमारे कोई कांटे बिछाये
बनके अनाड़ी कोई राह में आये
आते हैं लोग ये आते रहेंगे
जलते हैं लोग ये जलते रहेंगे
आये हैं चलने को चलते रहेंगे
जलते हैं लोग ये जलते रहेंगे

चाहे कोई माने या न माने
हम तो हैं बस प्रेम दीवाने
प्यार किया है और करते रहेंगे
जलते हैं लोग ये जलते रहेंगे
आये हैं चलने को कलते रहेंगे
जलते हैं लोग ये जलते रहेंगे
———–

FacebookTwitterGoogleLinkedIn


Leave a Reply


Your email address will not be published. Required fields are marked *