man-sitting-on-banks-of-river
India Poem Poetry Poverty

मेरा जीवन

FacebookTwitterGoogleLinkedIn


जीवन मेरा एक नादिया की धारा

ना कोई मंजिल ना कोई किनारा

मन है चंचल जैसे बादल

नयन मेरे जैसे काला काजल

हवा का रुख़ जिधर को होता

बादल का मुख उधर ही होता

झील सी गहरी आँखें मेरी

जैसे हो आकाश में तारा

जीवन मेरा एक नादिया की धारा

ना कोई मंजिल ना कोई किनारा

बदन मेरा जैसे नागिन कोई

चाल भी मेरी नागिन वाली

मुखड़ा मेरा चाँद का टुकड़ा

बिन्दिया की भी चमक निराली

जब भी चलती ऐसे चलती

जैसे चलता नाग हो कारा

जीवन मेरा एक नादिया की धारा

ना कोई मंजिल ना कोई किनारा

केश मेरे हैं काले ऐसे

गगन में छाये बादल जैसे

केश मैं खोलूं जब भी अपने

छायें मुख पर जैसे नींद में सपने

सारे मुख पर ऐसे फैलें

ढकलें मुख मेरा प्यारा-प्यारा

जीवन मेरा एक नादिया की धारा

ना कोई मंजिल ना कोई किनारा

कानों में कुंडल चमके ऐसे

गगन में बिजली दमके जैसे

ऋतुराज बसंत जब-जब आये

मन में ये अति प्रीत बढ़ाए

विरह में पीत वर्ण हो जाता

फूलों भरा जैसे खेत हो सारा

जीवन मेरा एक नादिया की धारा

ना कोई मंजिल ना कोई किनारा

गर्मी में तन कुम्हला जाता

जैसे सूख जाती हैं नदियाँ

प्यार को मेरा मन है तरसे

जैसे तरसे जल को नदियाँ

काश ऐसे में आते प्रियतम

और तन को करते ठंडा सारा

जीवन मेरा एक नादिया की धारा

ना कोई मंजिल ना कोई किनारा

जब-जब आती वर्षा प्यारी

खुशियां लाती जीवन में सारी

वर्षा के पानी से भरती नदियाँ

चंचल हो इठलाती नदियाँ

बलखाती इठलाती मैं भी

चलती जैसे पवन अति प्यारा

जीवन मेरा एक नादिया की धारा

ना कोई मंजिल ना कोई किनारा

कर प्रियतम की याद मैं बैठी

घर की छत पर मैं अकेली

खोया-खोया देख कर मुझको

छेड़ें आकर सारी सहेली

किसकी याद में खोई पगली

कहाँ खोया तेरा मन है प्यारा

जीवन मेरा एक नादिया की धारा

ना कोई मंजिल ना कोई किनारा

Leave a Reply


Your email address will not be published. Required fields are marked *