Featured Life Love Philosophy Romance Top

ब्रेक-अप के बाद

रिया का ब्रेक अप हुए तीन महीने से ज़्यादा हो गए हैं लेकिन वो अपने x-बॉयफ्रेंड को अब तक भूल नहीं पायी है. इसी के चलते वो मानसिक अवसाद झेल रही है. साथ ही वो किसी और के साथ रिलेशन भी नहीं बना पा रही हे.
यह सच है कि  किसी भी रिश्ते का टूटना बहुत तकलीफदेह होता है. जिनसे हम भावनात्मक स्तर पर जुड़े होते हैं,  उनसे अलग हो कर अपने आप को संभाल पाना बहुत मुश्किल होता है. वास्तव में हम जब किसी से मानसिक व शारीरिक रूप से जुड़े होते हैं और उसके साथ बहुत से खुशगवार पल बिताते हैं तो उसके साथ न होने पर ऐसे पल हमें अक्सर याद आते और सताते हैं. ऐसी स्तिथि में किसी को भी अपने “X” को भूल पाना आसान नहीं होता. बहुत सी छोटी- छोटी बातें हमें उसके साथ बिताये पलों को अक्सर याद दिलाती रहती हैं और उन्हें सोच कर हम अपने “X” को याद कर दुखी होने लगते हैं. ब्रेक-अप का कारण चाहे कुछ भी क्यों न हो हमें कहीं न कहीं उसका पछतावा भी होता है. इस स्तिथि में तनावग्रस्त होना स्वभाविक है. हम इस बात को स्वीकार नहीं कर पाते की अब हमारा साथी हमारे साथ नहीं है, हम सदैव के लिए एक-दूसरे से अलग हो गए हैं. हमारी समझ में  नहीं आता क़ि हम ऐसा क्या करें की नयी तरह से सामान्य जीवन जी सके. ऐसे मैं हमें इस बात का विशेष ध्यान रखना होगा क़ि ज़िन्दगी नाम है आगे बढ़ने का. हमें सकारात्मक सोच व भरपूर आत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ने का प्रयास करना चाहिए. जितना हो सके अपने आप को व्यस्त रक्खें, नए लोगों से मिलें, नए स्थानों पर घूमें-फिरें. कुछ न कुछ नया करते रहने से पुरानी बातें हमें याद नहीं आयेंगीं.

ऐसा न सोचें क़ि हमें ही ऐसी दुखद परिस्थितियों से जूझना पढ़ रहा है बाकी सब तो अपने जीवन का आनंद ले रहे हैं. क्योकि शायद ही कोई ऐसा हो जो दुःख-सुख, सफलता-असफलता या आशा- निराशा के उतार-चढाव से दो-चार न हो. जो कुछ भी हुआ आज वो हमारा अतीत है, जिसके बारे में सोचना व्यर्थ है. हमें अतीत से सबक लेते हुए अपने भविष्य की बुनियाद रखनी चाहिए-पूरे आत्मविश्वास के साथ.

अगर लगता है कि किसी के साथ फिर से ज़िन्दगी को खुशगवार बनाया जा सकता है तो अतीत कि कड़वाहट को भुला कर नए उत्साह के साथ उसके साथ नए रिश्ते को जोड़ने का प्रयास करना चाहिए. ऐसा करके हम महसूस करेंगे कि ज़िन्दगी बहुत ख़ूबसूरत है. ब्रेक-अप के बाद लिंक-अप इतना मुश्किल नहीं जितना हम उसे बना देतें हैं.

FacebookTwitterGoogleLinkedIn


Leave a Reply


Your email address will not be published. Required fields are marked *