babaramdev_haridwar-Salwar
comedy Democracy Hindi Humour Mythology Opinion Politics Top

बाबा का बेटी बचाओ फॉर्मूला

FacebookTwitterGoogleLinkedIn


देश की संसद में आज महान संत बाबा रामदेव पर एक गंभीर इल्जाम लगा, बेटा पैदा करने की गारंटी वाली दवा बेचने का। बाबाजी जैसे महापुरुष पर ऐसा इल्जाम कुत्सित सोच का परिणाम है। बाबाजी तो स्वयं बेटी बचाओ आंदोलन के जनक हैं।

रामलीला मैदान पर जब ताबड़-तोड़ लाठियां चली थीं, तब कातर बाबाजी चिल्लाये थे—बेटी बचाओ.. बेटी बचाओ। बेटियां फौरन आ गई थीं और उन्होने बाबाजी को सलवार सूट दिया था, जिसे पहनकर प्राणप्रिय बाबाजी ने अपने प्राणों की रक्षा की थी। बेटियों के प्रति कृतज्ञता जताने के लिए उन्होने बकायदा दुपट्टा धारण करके फोटो शूट भी करवाया था।

कुछ लोगो का कहना है कि प्रधानमंत्री को बेटी बचाओ का नारा भी बाबाजी की प्रेरणा से ही सूझा था। ऐसे महापुरुष ने अगर आजीविका के लिए पुत्र जीवक बटी बेच भी दी तो इससे कौन सी आफत आ गई? पुत्र जीवक बटी बेचकर बाबाजी कन्या भ्रूण हत्या रोकने के पवित्र काम में अपना योगदान दे रहे हैं। अगर पुत्र होने की गारंटी होगी कि कोई एबॉर्शन नहीं करवाएगा। पुत्र नहीं हुआ, तब भी कोई बाबाजी पर केस नहीं करेगा।

ब्लैक में कमाये गये रुपये और उपायो से प्राप्त किये गये पुत्र के बारे में जानकारी देना इस देश में कानूनी और नैतिक अपराध है, सयानी जनता ये जानती है। इसलिए डूबी ब्लैक मनी और पुत्र प्राप्ति के निष्फल उपायों की चर्चा कोई नहीं करता। खैर मतलब की बात ये है कि बाबाजी के पुत्र जीवक बटी बेचने पर रोक कतई नही लगाई जानी चाहिए, बल्कि उन्हे प्रोत्साहित किया जाना चाहिए ताकि एबॉर्शन से होने वाली कन्या भ्रूण हत्या रूक सके।

पुत्र जीवक बटी बेचकर पुत्रियों की रक्षा के अनोखे फॉर्मूले के लिए बाबा रामदेव को भारत रत्न भी दिया जाना चाहिए।

Leave a Reply


Your email address will not be published. Required fields are marked *