Happiness Hindi Life Love Opinion Poem Poetry Social

नैतिक बनाम अनैतिक

जो सोये हैं नींद में गहरी हम उठा सकते हैं उन्हें
पर जो हैं जागकर सोए हम नहीं उठा सकते उन्हें
उजाले में किया हर कार्य नैतिक नहीं होता
अंधेरे में किया हर कार्य अनैतिक नहीं होता
अंधकार और प्रकाश तो प्रकृति का नियम है
जो दोनों में करे कार्य नैतिक वही बड़ा संयम है
थक जाते हैं कार्य से दिन में तो रात विश्राम देती है
जब मन हो जाता है कुंठित तो रात शांति देती है
दिशा अनंत है जैसे, अच्छे बुरे की सीमा नहीं होती
जो भर दे नैतिकता समाज में उसकी तुलना नहीं होती
भगवान अनेक हो सकते हैं यहाँ हर धर्म के नाम से
बाँट सकते हैं दुनियाँ को वे बस अपने ही नाम से
महापुरुष बिरले ही होते हैं जो मानवता का तप करें
प्रेम और भाईचारा प्रसार कर समाज में नैतिकता भरें
मनुष्य जब करेंगे कार्य मिलकर नैतिकता के सभी
सुख, चैन और अमन की, बहेंगी यहाँ नदियाँ तभी
जागो, उठो नींद से अब सब, अज्ञानता को दूर करो
दुखी न हो अब कोई जगत में, ऐसे नैतिक कार्य करो
बस केवल नैतिक कार्य करो, अब केवल नैतिक कार्य करो
—————-

FacebookTwitterGoogleLinkedIn


Leave a Reply


Your email address will not be published. Required fields are marked *