Hindi India Opinion Poem Poetry Politics Poverty

देश की तस्वीर

देश अनेकों जाकर तुमने, भारत की शान बढ़ाई

मोदी-मोदी बोल रहे हैं, हर देश में एन०आर०आई

लंका में जाकर के मोदी, तुमने पुरानी कथा सुनाई

किया राम गुणगान वहाँ पर, रावण की याद दिलाई

चन्द क्षणों में किया फ़ैसला, ऐसे तुम हो संज्ञानी

नेपाल में तुरंत रसद पहुँचाई, मालदीव में पानी

बुरे वक्त में साथ दिया और मदद करी मनमानी

सेना को भी भेजा तुमने, ऐसे हो वीर बलदानी

पर मेरे देश की प्यारी जनता, हाय तुम्हारी यही कहानी

तरसे बूँद-बूँद को विदर्भ वासी, नहीं मिला उन्हें था पानी

भूख से व्याकुल जनता मर गई, नहीं पहुँचा कोई दानी

ऐसे थे हालात यहाँ पर, जिसका ना था कोई सानी

अरब-अमीरात में जाकर मोदी, मंदिर खातिर जगह दिलाई

हो भारत का कॉलेज वहाँ पर, नहीं याद तुम्हें थी आई

सुलझाया विवाद सीमा का, बंगलादेश में जाकर शान बढ़ाई

यहाँ जाति-पाँत और धर्म पर लड़ रहे, आपस में भाई-भाई

स्वच्छ भारत को करने की, थी कसम आपने खाई

भरी गंदगी दिलों के अंदर, थी कभी याद ना आई

कालाधन, भृष्टाचार मिटाने को, आगे कदम बढ़ाया

ये दोनों तो मिटे नहीं पर, आगे व्यापम आया

खाता खुलवा दिया बैंक में, ऐसा कार्य महान किया

आयेगा पैसा कहाँ से इसमें, इस पर नहीं था ध्यान गया

खाता खोलकर खुशी मनाले, भारत की जनता प्यारी

दाल, प्याज की क्या ज़रूरत, यह तो बड़ी बीमारी

हिंदू देश बनाने की भारत को, थी कसम आपने खाई

भुला दिया है यहाँ पर रहते, मुस्लिम,बौद्ध,सिख,ईसाई

————–

FacebookTwitterGoogleLinkedIn


Leave a Reply


Your email address will not be published. Required fields are marked *