Featured Hindi Love Poem Poetry Romance Shayri Top Urdu

ढूंढता हूँ मैं

सोयी हुई यादों में तुम्हें ढूंढता हु मैं I

दरिया के बीच जा के ज़मीं ढूंढता हूँ मैं I

 

मालूम नहीं हो गयी मुझसे कहाँ ख़ता,

खुद अपने लिए आज सज़ा ढूंढता हूँ मैं I

 

ऐ चाँद आसमाँ के तू मुझको दे रौशनी,

गुम हो गया है चाँद मेरा ढूंढता हूँ मैं I

 

यूँ खो गया राह में मुझसे मेरा नसीब,

मिलते नहीं क़दमों के निशां ढूंढता हूँ मैं I

FacebookTwitterGoogleLinkedIn


Leave a Reply


Your email address will not be published. Required fields are marked *