City-Lonely-Life
Cities Culture Delhi/NCR Friendship Hindi Poem Poetry Top

इस शहर की शाम से परेशां सा हूँ…

FacebookTwitterGoogleLinkedIn


इस शहर की गलियों से अंजान सा हूँ
गली में लगी दुकानों को देख हैरान सा हूँ
आस पास भीड़ तो दिखती है मगर
इस भीर में गुमनाम सा हूँ
इस शहर की शाम से परेशां सा हूँ…

सडको पर मोटरगाड़ियों को देखता हूँ मगर
इन गाड़ियों में बैठे लोगों से अंजान सा हूँ
नज़रें ढूंढती है कि कोई अपना सा मिले
पर अपनों की खोज में हैरान सा हूँ
इस शहर की शाम से परेशां सा हूँ…

अब भूख लगी तो है
पर सोचता हूँ, जाऊ किधर
पांच सितारा होटल देख हैरान सा हूँ
पर शायद वहां पेट की भूख मिटते नहीं
इसलिए रोटी की खोज में थका सा हूँ
इस शहर की शाम से परेशां सा हूँ…

शाम गहरी हो रही है
सर छिपाने के लिए मैं जाऊ किधर
इस शहर में ऊँची इमारते तो है
पर इन इमारतों में अपना मकान तो मिले
एक आशियाने की खोज में थका सा हूँ
आबोदाने की चाह में डरा सा हूँ
इस शहर की शाम से परेशां सा हूँ…

Leave a Reply


Your email address will not be published. Required fields are marked *