Corruption Culture Democracy Government Happiness Human Resource India Love Media Opinion Optimism Politics Productivity Radicalization Women

‘लव-जिहाद’ पर एक सोच

FacebookTwitterGoogleLinkedIn


आये दिन ‘लव जिहाद’ के ऊपर काफी चर्चा हो रही है। आखिरकार यह ‘लव जिहाद’ है क्या? हाल ही देश

Read more
2017 Cooking Culture Education Environment Food Government India Indian Culture Lifestyle Opinion Optimism Productivity Social Work Technology Television Workforce World

खाना वाकई मे खज़ाना है!

FacebookTwitterGoogleLinkedIn


बचपन मे जब मैं खाना नष्ट करता था, तो मेरे परिवार वाले मुझे डांटते और कहते कि,“अन्न नष्ट करने का

Read more
Featured Poem Social Issues Women

#metoo (dedicated to the spoken & the unspoken)

FacebookTwitterGoogleLinkedIn


Post Views: 431 She screamed metoo and a thousand metoo echoed back, Knowing less her voice would shake up the rack. What did she do wrong, what did she lack Her metoo this time has created a crack!  She looked around and the metoo only grew,  She looked closer and it was someone she knew.  For once her sky was the brightest blue Even the Gods seem to acknowledge her metoo!  She can’t tell if

Read more
2017 Business Corruption Culture Delhi/NCR Democracy Education Entrepreneurship Environment Globalisation Governance Government Human Resource India Opinion Optimism Recruitment Urbanisation World

गरीबी हटायेंगे लेकिन कैसे?

FacebookTwitterGoogleLinkedIn


Post Views: 418 आज ‘अंतर्राष्ट्रीय गरीबी हटाओ दिवस’ है। संयुक्त राष्ट्र ने आज से ठीक पच्चीस साल पहले आज के दिन को इस नेक कार्य के लिए चुना था। पिछली सदी शायद मानवता के लिए सबसे भीषण और दर्दनाक समय रहा है। दो विश्व युद्ध, परमाणु हमलों, ‘कोल्ड वौर’ जैसे संकटमय क्षणों के अलावा कई गुलाम देशों को आज़ादी मिली। अफ्रीका, एशिया और दक्षिण अम्रीका के कई देशों ने स्वतंत्रता की सांस ली। लेकिन इसी

Read more
2017 Cooking Culture Education Environment Food Government India Indian Culture Lifestyle Opinion Optimism Productivity Social Work Technology Television Workforce World

खाना वाकई मे खज़ाना है!

FacebookTwitterGoogleLinkedIn


Post Views: 764 बचपन मे जब मैं खाना नष्ट करता था, तो मेरे परिवार वाले मुझे डांटते और कहते कि,“अन्न नष्ट करने का मतलब है किसी दुसरे को खाने से वांछित करना”। चूँकि मैं छोटा था, मुझे इसका मतलब समझ नहीं आया। जब मैं थोड़ा बड़ा हुआ और दुनिया दारी की मुझे समझ होने लगी, तब मुझे इस कथन का तात्पर्य पूर्ण रूप से समझ मे आया। अब मेरी कोशिश हमेशा से यही रहती है

Read more
Child Sexual Abuse Featured India Indian Culture

सुरक्षित बचपन, सुरक्षित भारत

FacebookTwitterGoogleLinkedIn


Post Views: 459 हाल ही मे कैलाश सत्यार्थी बाल संगठन द्वारा आयोजित ‘भारत यात्रा’ समाप्त हुआ। यात्रा से जुड़े एक ज़रुरी संदेश को जनता तक पहुंचाने के लिए कैलाश सत्यार्थी ने लोकप्रिय कार्यक्रम ‘गली गली सिम सिम’ के किरदार एलमो से बात की। ‘सुरक्षित बचपन, सुरक्षित भारत’ के अंतर्गत ‘सही स्पर्श, गलत स्पर्श’ के बारे मे कैलाश जी ने एक कई ज़रुरी बातें बताईं। जब एलमो ने उनसे सुरक्षित बचपन का तात्पर्य पुछा,तब कैलाश जी ने बताया, “ सुरक्षित बचपन का मतलब है कि किसी भी व्यक्ति

Read more
2017 Crime Culture Democracy Education Environment Featured Globalisation Human Resource Opinion Optimism Productivity World

Disasters don’t come knocking!

FacebookTwitterGoogleLinkedIn


Post Views: 468 Disasters don’t wait to happen. They happen when one least expects them. Today is International Day for Disaster Reduction. In the past couple of months, the world has seen a series of catastrophes. From earthquakes and hurricanes ravaging the North American and Mexican coasts to coastal rains lashing Eastern India, Bangladesh and Nepal, loss of human and animal life has been tremendous and unforgiving. Due to increasing global warming and melting of

Read more
2017 Culture Education Food Happiness Health Life Medicine Opinion Optimism Work

आर्थ्राइटिस लाइलाज नहीं है!

FacebookTwitterGoogleLinkedIn


Post Views: 282 आज ‘विश्व आर्थ्राइटिस दिवस’ है। आर्थ्राइटिस आम भाषा मे ‘जोड़ों का दर्द’ होता है। यह ग्रीक शब्द से लिया गया है। ग्रीक मे आथ्रो का मतलब है ‘जोड़ा’ और आईटिस का मतलब है ‘सूजन’। इंसान के शरीर मे जोड़ों की एहम भूमिका होती है। विभिन्न तरह के चलन और काम-काज इंसान जोड़ों की मदद से ही कर पाता है। एक तरह से हम यह भी कह सकते हैं की जोड़े हमे कोई

Read more
2017 Corruption Democracy Feminism Opinion Optimism Story Women World

International Day of the Girl Child!

FacebookTwitterGoogleLinkedIn


Post Views: 186 Today is International day of the girl child. It’s a day to take a step back and understand the status of gender equality in society. Even after 70 years after independence, India still doesn’t boast of having a high sex ratio. While the Southern state of Kerala registers a satisfactory 1047 females for every 1000 males but  National Capital of Delhi registers a meager 847 females per 1000 males as per the

Read more
भारतीय डाक सेवा

डाकिया डाक लाया !

FacebookTwitterGoogleLinkedIn


Post Views: 250 डाकिया डाक लाया! डाकिया डाक लाया! राजेश खन्ना की मशहूर फिल्म ‘पलकों की छाओं मे’ से यह गाना आज भी मन को उसी तरह लुभाता है जैसे की यह चालीस साल पहले करता था। ‘बॉर्डर’ फिल्म मे मशहूर गाना ‘संदेसे आते हैं’ मे भी डाकिये को एक एहम भूमिका दी गई थी। मोबाइल फ़ोन, इ-मेल और इंटरनेट को दुनिया मे आये हुए केवल 30 से 40 साल हुए हैं। लेकिन डाक का

Read more
2017 Culture Democracy Featured History India Legends Life Technology

Touching the sky with glory

FacebookTwitterGoogleLinkedIn


Post Views: 609 The Indian Air Force (IAF) completed 85 years yesterday. Created on October 8, 1932 as an auxiliary part of the erstwhile British Empire’s Royal Air Force, the IAF played a crucial role in the upcoming 2nd World War. Its’ first ever, No: 1 squadron was composed of all males from diverse backgrounds and religious identities. Two of India’s most well-known pilots and Chiefs of Air Staff Subroto Mukherjee and Arjan Singh were

Read more
2017 Cities Culture Education Featured Globalisation Governance History India Optimism Radicalization Science Technology World

परमाणु बम से आज़ादी!

FacebookTwitterGoogleLinkedIn


Post Views: 707 हाल ही मे नोबेल प्राइज़ समिति ने अन्तराष्ट्रीय परमाणु हथियार समाप्ति संगठन (ICAN) को शांति पुरस्कार से नवाज़ा। समिति ने कहा की, “ग्लोबल वार्मिंग, प्रदुषण और आतंकवाद से भी ज्यादा भयानक है परमाणु हथ्यार।इसके उत्पादन को रोकना और परमाणु शक्ति को ऊर्जा के लिए उपयोग करना आवश्यक है।” जब अमेरिकी सेना ने अगस्त 1945 को जापान के हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु बम गिराए थे, तो इसका प्रभाव पूरी दुनिया ने देखा

Read more